Monday, May 27, 2024
spot_img
HomeNewsसावधान! दिल्ली के डॉक्टर को भारी पड़ा रिफंड,113 रुपये के रिफंड के...

सावधान! दिल्ली के डॉक्टर को भारी पड़ा रिफंड,113 रुपये के रिफंड के चक्कर में 5 लाख रुपये गंवाए डॉक्टर, जानें इससे कैसे बचें

https://techtrends4u.com/budget-friendly-laptop-best-laptops-under-30k/

संक्षिप्त समाचार (डॉक्टर को भारी पड़ा रिफंड)

दिल्ली के डॉक्टर को भारी पड़ा रिफंड, 113 रुपये के चक्कर में लुट गए 5 लाख रुपये

हाल ही में एक चौंकाने वाली घटना में, दिल्ली के एक डॉक्टर को एक ऑनलाइन घोटाले में 5 लाख रुपये का नुकसान उठाना पड़ा। डॉक्टर ने कैब सेवा कंपनी से 113 रुपये के रिफंड के लिए कॉल करने के बाद यह नुकसान उठाया। डॉक्टर को लगा कि वह कंपनी के आधिकारिक ग्राहक सेवा प्रतिनिधि के साथ बात कर रहे हैं, लेकिन वास्तव में वह साइबर अपराधियों के जाल में फंस गए।

डॉक्टर को भारी पड़ा रिफंड
डॉक्टर को भारी पड़ा रिफंड

समाचार विस्तार से  (डॉक्टर को भारी पड़ा रिफंड)

डॉक्टर को भारी पड़ा रिफंड: दिल्ली के डॉक्टर,  डॉक्टर, प्रदीप चौधरी, ने हाल ही में कैब सेवा का इस्तेमाल किया था और उनसे 318 रुपये का शुल्क लिया गया था। जबकि बुकिंग ऐप पर 205 रुपये का किराया दिखाया गया था। उन्होंने कंपनी के ग्राहक सेवा से संपर्क करने का प्रयास किया ताकि रिफंड का अनुरोध किया जा सके, लेकिन एक आधिकारिक प्रतिनिधि तक पहुंचने के बजाय, वह साइबर अपराधियों के शिकार हो गए।

डॉक्टर चौधरी ने ऑनलाइन एक ग्राहक सहायता नंबर पाया और उसे कॉल किया, यह मानते हुए कि यह कैब कंपनी का वैध संपर्क है। कॉल का जवाब देने वाले व्यक्ति ने एक ग्राहक सेवा प्रतिनिधि के रूप में प्रस्तुत किया और चौधरी को एक रिमोट सेंसिंग एप्लिकेशन डाउनलोड करने के लिए कहा। एप्लिकेशन के धोखाधड़ी प्रकृति से अनजान, चौधरी ने निर्देशों का पालन किया।

फिर, स्कैमर्स ने चौधरी को रिफंड क्षेत्र में अपने फोन नंबर के अंक दर्ज करने के लिए धोखा दिया, जिससे उन्हें चौधरी के फोन के रिमोट कंट्रोल तक पहुंच प्राप्त हुई। इस पहुंच का उपयोग करके, उन्होंने चौधरी के बैंक खाते से कुल 5 लाख रुपये की कई धोखाधड़ी लेनदेन शुरू की।

यह घटना साइबर अपराधियों के बढ़ते परिष्कार और ऑनलाइन घोटालों के खिलाफ सतर्क रहने के महत्व पर प्रकाश डालती है। ऐसे घोटालों का शिकार होने से बचने के लिए आप कुछ सावधानी बरत सकते हैं:

संपर्क जानकारी सत्यापित करें: हमेशा ग्राहक सेवा तक पहुंचने या ऑनलाइन लेनदेन करने से पहले संपर्क जानकारी की प्रामाणिकता की जांच करें। कंपनी की आधिकारिक वेबसाइट या सोशल मीडिया पेज का उपयोग उनके वैध संपर्क विवरण खोजने के लिए करें।

अनपेक्षित कॉलों से सावधान रहें: स्कैमर्स अक्सर लोगों को व्यक्तिगत जानकारी प्रकट करने या दुर्भावनापूर्ण सॉफ़्टवेयर डाउनलोड करने के लिए प्रेरित करने के लिए फ़िशिंग रणनीति का उपयोग करते हैं। यदि आपको किसी कंपनी से अप्रत्याशित कॉल आती है जो ग्राहक सेवा प्रदान करने का दावा करती है, तो सावधानी बरतें और आगे बढ़ने से पहले उनकी पहचान सत्यापित करें।

रिमोट एक्सेस एप्लिकेशन से बचें: अज्ञात स्रोतों से रिमोट एक्सेस एप्लिकेशन कभी भी डाउनलोड या इंस्टॉल न करें। ये एप्लिकेशन स्कैमर्स को आपके डिवाइस पर पूर्ण नियंत्रण दे सकते हैं, जिससे उन्हें संवेदनशील जानकारी का उपयोग करने और अनधिकृत कार्रवाई करने की अनुमति मिलती है।

अपनी बैंकिंग जानकारी की रक्षा करें: अपने बैंकिंग क्रेडेंशियल, पिन, या ओटीपी कभी भी किसी के साथ फोन या ईमेल पर साझा न करें। यदि आपको ऐसी जानकारी के लिए अनुरोध प्राप्त होता है, तो यह संभवतः एक घोटाला है।

संदिग्ध गतिविधि की रिपोर्ट करें: यदि आपको संदेह है कि आप साइबर घोटाले का शिकार हो गए हैं, तो तुरंत संबंधित अधिकारियों को घटना की सूचना दें और अपने बैंक से संपर्क करें ताकि किसी भी अनधिकृत लेनदेन को रोक दिया जा सके।

इन सावधानियों का पालन करके और सतर्क रहकर, आप ऑनलाइन घोटालों का शिकार होने के जोखिम को कम कर सकते हैं ।

टेक से सम्बंधित खबरें पढ़ने के लिए के लिए क्लिक करें ।

 

जॉब / वैकेंसी की जानकारी के लिए क्लिक करें।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular