Monday, May 27, 2024
spot_img
HomeNewsNeuralink , Chip Will Control Human Brain,Elon Musk का नया प्रयोग,सिर्फ सोचने...

Neuralink , Chip Will Control Human Brain,Elon Musk का नया प्रयोग,सिर्फ सोचने मात्र से चलेगा की बोर्ड और कर्सर, क्रांतिकारी परिवर्तन,।

Neuralink,Chip Will Control Human Brain,Elon Musk की स्टार्टअप कंपनी न्यूरालिंक  इंसानी दिमाग पर अजीबोगरीब प्रयोग करने जा रही है . इसके लिए कंपनी को अमेरिकन एजेंसी एफडीए से मंजूरी भी मिल चुकी है .यह प्रयोग इंसान के दिमाग में चिप लगाना है .इस चीज की मदद से पास के मोबाइल या लैपटॉप से जिसे भी कनेक्ट होगा उसे कंट्रोल करना है .

इस चिप के माध्यम से इंसान बिना माउस और लैपटॉप के कमान कंप्यूटर को भेज सकता है अगर यह प्रयोग सफल होता है तो यह एक क्रांति से कम नहीं होगा .अब मंजूरी मिलने के बाद उम्मीद है कि आने वाले एक दो सप्ताह में इसके ट्रायल शुरू हो सकता है।

Neuralink,Chip Will Control Human Brain,Elon Musk
Elon Musk ,Neuralink

एलन मस्क की कंपनी न्यूरालिंक की स्थापना 2016 में हुआ था।अभी कंपनी की प्लानिंग है 2030 तक 22000 लोगों के दिमाग में चिप लगाने का है।

 कंपनी का लक्ष्य क्या  है ?

फिलहाल न्यूरालिंक वैसे वैसे इंसान की तलाश में है जो अपने दिमाग में चिप लगवाना चाहते हो।
वैसे लोगों को एलन मस्क की कंपनी न्यूरलीन अपने यहां अप्वॉइंट करेगी .उसके बाद ब्रेन सर्जरी के द्वारा इंसान के दिमाग में चिप लगाया जाएगा। हालांकि न्यूरालिंक विवादों में भी रह चुकी है .पहले कंपनी जानवरों के ऊपर इस चिप का प्रयोग कर चुका है .इस प्रयोग में जैसा बताया जा रहा है 2018 से अब तक 1500 जानवरों के ब्रेन में चिप इनप्लांट किया गया था.प्रयोग में ही जानवर मर गए थे।कंपनी के अनुसार शुरुआत में उसका मकसद सिर्फ कंप्यूटर कर्सर और कीबोर्ड को कंट्रोल करना है. कंप्यूटर को  कंट्रोल कमांड दिमाग में लगाए गए चिप से मिलेगा.

Chip Human Brain में काम कैसे करेगा ?

सर्जरी के द्वारा इंसान के दिमाग में यह चिप इंप्लांट किया जाएगा यह चिप ब्रेन कंप्यूटर इंटरफेस का काम करेगा। सफलतापूर्वक इंस्टॉल हो जाने के बाद इंसान जो भी सोचेगा, वह सिग्नल चिप रिसीव करेगा । सिग्नल रिसीव करने के बाद जो भी डिवाइस कनेक्ट होगा,सिग्नल उसे डिवाइस को फॉरवर्ड करेगा . डिवाइस सिग्नल मिलाने के बाद काम करना प्रारंभ कर देगा ।
अभी प्रारंभ में सिर्फ माउस और कीबोर्ड को कंट्रोल करना लक्ष्य रखा गया है ।अगर यह प्रयोग सफल रहता है तो खास तौर पर उन व्यक्तियों के लिए काफी फायदेमंद होगा जो पैरालिसिस से ग्रसित हैं तथा वे अपने हाथ से काम नहीं कर सकते।

 

Neuralik chip experiment
Working of chip in human brain Source

 

फ़िलहाल ट्रायल किन लोगों पर करेगा ?

कंपनी वैसे लोगों को तलाश में जो सर्वाइकल स्पाइनल कोर्ड या दूसरे वीमारी के कारण पेरेलेसिस से पीड़ित हैं . वैसे कुल कितने लोगों पर ट्रायल किया जाएगा,अभी इसकी कोई जानकायी नहीं है.लेकिन कंपनी इस प्रयोग को पूरा करने का लक्ष्य ६ साल का रखा है.

Neuralink  चिप कैसा है ?

यह चिप सिक्के के साइज का हो सकता है.जो इंसानी दिमाग में इनस्टॉल हो जाने के बाद सिर्फ उस इंसान के सोचने मात्र से कम्प्यूटर का की बोर्ड और माउस काम करेगा. कुल मिलकर अगर प्रयोग सफल हो जाता है तो यह एक क्रांतिकारी बदलाव होगा.

 

For more news read

 

RELATED ARTICLES

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular