Sunday, May 19, 2024
spot_img
HomeBlogPlace to visit in Ayodhya: अयोध्या दर्शन; भगवान राम की नगरी के...

Place to visit in Ayodhya: अयोध्या दर्शन; भगवान राम की नगरी के 11 प्रमुख दर्शनीय स्थल

Table of contents

Place to visit in Ayodhya: राम की नगरी अयोध्या में भक्ति और सौंदर्य का संगम न सिर्फ आध्यात्मिक शांति देती है, बल्कि इतिहास के झरोखों से झांकते पौराणिक किस्सों की सफर भी कराती है। आज हम आपको अयोध्या के 11 ऐसे ही दर्शनीय स्थलों की यात्रा पर ले चलते हैं, जहां हर कदम पर आस्था और इतिहास का संगम आपको मंत्रमुग्ध कर देगा।

11 – Place to visit in Ayodhya

आइए जानते  हैं उन सभी 11 दर्शनीय स्थानों के बारे में जहां अयोध्या आने के बाद सभी को जाना चाहिए। इन पवित्र स्थानों के दर्शन के बाद आप मानसिक शकुन की अनुभूति करेंगे ।

Hanumangarhi: जहां वीर बजरंगबली का वास (1/11)

HanumanGarhi
hanumaan-ghari (image credit to uptourism)

hanumangarhi: सरयू नदी के तट पर 76 सीढ़ियां पार कर आप हनुमानगढ़ी के पवित्र प्रांगण में पहुंचेंगे। यह 10वीं शताब्दी का मंदिर है, जहां महावीर हनुमान ने विश्राम किया था। यहां भगवान हनुमान की विशाल स्वर्णिम मूर्ति श्रद्धालुओं के मन में श्रद्धा और उत्साह का संचार करती है। मान्यता है कि यहां माथा टेकने और बजरंगबली का आशीर्वाद लेने से हर कष्ट दूर हो जाते हैं।

 Place to visit in Ayodhya रामकोट: राम के राज्य का साक्षी (2/11)

Place to Visit in Ayodhya
Ramkot (Image Credit UPtourism)

अयोध्या की पवित्र भूमि पर श्री राम के चौदह वर्ष के वनवास का एक महत्वपूर्ण अध्याय रामकोट में लिखा गया था। यह शांत और पवित्र वातावरण से भरपूर क्षेत्र मंदिरों और तीर्थस्थानों का खजाना है। यहां आप शाबरी आश्रम, पंचवटी और सीताकुंड जैसे पौराणिक स्थलों के दर्शन कर सकते हैं। रामकोट में हर साल रामनवमी का त्योहार धूमधाम से मनाया जाता है, जहां लाखों श्रद्धालु भगवान राम के चरणों में श्रद्धा अर्पित करते हैं।

 Place to visit in Ayodhya श्री नागेश्वरनाथ मंदिर:भगवान शिव का  आशीर्वाद (3/11)

Place to Visit In Ayodhya
nageshwar Mandir (Image credit to UPtourism)

अयोध्या के प्रमुख देवताओं में से एक भगवान नागेश्वरनाथ का यह भव्य मंदिर भक्तों को आध्यात्मिक शांति प्रदान करता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, श्री राम के पुत्र कुश द्वारा निर्मित यह मंदिर प्राचीन शिवलिंग के लिए प्रसिद्ध है। यहां पवित्र सरयू नदी में स्नान कर और भगवान नागेश्वरनाथ का दर्शन कर मन को पवित्रता का अनुभव होता है।

Place to visit in Ayodhya कनक भवन:राम दरबार का मनमोहक चित्र (4/11)

Place to Visit in Ayodhya
कनक-भवन image credit ti traveltringle

1891 में निर्मित कनक भवन मंदिर अपनी कलात्मक सुंदरता से आगंतुकों को मंत्रमुग्ध कर देता है। सोने के पानी से सजे इस मंदिर में भगवान राम, सीता और उनके तीनों भाइयों की मनमोहक मूर्तियां स्थापित हैं। यहां मंदिर की दीवारों पर रामायण के दृश्यों का सुंदर चित्रण किया गया है, जो आपको पौराणिक काल में ले जाता है। कनक भवन में रोजाना होने वाली आरती में भाग लेकर दिव्य आनंद का अनुभव करें।

Place to visit in Ayodhya तुलसी स्मारक भवन: महाकवि को सादर प्रणाम (5/11)

Place to visit in Ayodhya
Tulsi Smarak Bhawan (Uptourism)

रामायण के रचयिता और महाकवि तुलसीदास जी को समर्पित यह भवन श्रद्धालुओं के लिए आस्था का केंद्र है। यहां रामायण पाठ, भजन-कीर्तन और धार्मिक प्रवचन का आयोजन किया जाता है, जो आध्यात्मिक वातावरण का निर्माण करते हैं। तुलसी स्मारक भवन के पुस्तकालय में रामचरितमानस और तुलसीदास जी के अन्य ग्रंथों का संग्रह भी किया गया है, जो साहित्य प्रेमियों के लिए आकर्षण का केंद्र है।

 Place to visit in Ayodhya राम की पैड़ी: सरयू के तट पर आत्मिक शांति का अनुभव (6/11)

place to visit in Ayodhya
Ram Ki Paidi( Up Tourism)

सरयू नदी के पवित्र तट पर बनी घाटों का समूह राम की पैड़ी कहलाता है। यह स्थान न सिर्फ धार्मिक महत्व रखता है, बल्कि यहां का प्राकृतिक सौंदर्य मन को मोह लेता है। यहां श्रद्धालु पवित्र स्नान कर अपने पाप धोते हैं और आत्मिक शांति का अनुभव करते हैं। शाम ढलते ही घाटों को दीपों से जगमगाया जाता है, जिसका नज़ारा बेहद मनोरम होता है। राम की पैड़ी पर बैठकर बहती सरयू को निहारना और पहाड़ियों पर डूबते सूरज का नज़ारा देखना एक अविस्मरणीय अनुभव है।

Place to visit in Ayodhya सूरज कुंड: सूर्य देव को प्रणाम और प्राकृतिक सौंदर्य का आनंद (7/11)

Place to visit In Ayodhya
SuryaKund (Image credit to Youtube)

अयोध्या से 4 किलोमीटर की दूरी पर स्थित सूरज कुंड एक विशाल तालाब है, जिसे सूर्य देव को समर्पित माना जाता है। कुंड के चारों ओर बने घाटों पर बैठकर शांत वातावरण का आनंद लिया जा सकता है। सूर्योदय के समय यहां का नज़ारा अलौकिक होता है, जब सूरज की किरणें कुंड के पानी को सोने से रंग देती हैं। इस समय कुंड में स्नान करने का खास महत्व है। सूरज कुंड के आसपास बगीचे भी हैं, जहां घूमना और प्रकृति की सुंदरता का आनंद लेना एक सुकून भरा अनुभव होता है।

Place to visit in Ayodhya गुलाब बाड़ी: सुगंधित गुलाबों की दुनिया में खो जाएं (8/11)

 

Place to visit in Ayodhya
Gulab Bari (Image credit to Social Media)

अयोध्या की यात्रा अधूरी है बिना गुलाब बाड़ी के दर्शन के। यह विशाल बगीचा सुगंधित गुलाबों के फूलों से सजा हुआ है, जो मन को मोह लेते हैं। बगीचे में गुलाबों की कई प्रजातियां देखी जा सकती हैं, जो अलग-अलग रंगों और सुगंधों से आपको मंत्रमुग्ध कर देंगी। यहां घूमना एक सुकून भरा अनुभव है, जहां आप फूलों की खूबसूरती और उनकी सुगंध का आनंद ले सकते हैं। बगीचे के बीच में बने मकबरे की वास्तुकला भी देखने लायक है।

Place to visit in Ayodhya त्रेता-के-ठाकुर: (9/11)

Place To Visit In Ayodhya
त्रेता-के-ठाकुर image credit ti traveltringle

इसे कालेराम-का-मंदिर के नाम से भी जाना जाता है , यह सुंदर मंदिर उस स्थान को चिह्नित करता है जहां भगवान राम ने पौराणिक अश्वमेध यज्ञ किया था। कुल्लू के राजा (हिमाचल प्रदेश) ने लगभग तीन सदी पहले वर्तमान संरचना बनाई थी। बाद में, इंदौर की महारानी अहिल्याबाई होलकर ने (मध्य प्रदेश) इसे पुनर्निर्माण किया। यहां स्थित मूर्तियाँ काले संगमरमर की बनी हैं; माना जाता है कि ये राजा विक्रमादित्य के युग से संबंधित हैं।

Place to visit in Ayodhya मणि पर्वत: (10/11)

Place to visit in ayodhya
Mani Parvat ( Up Tourism)

इस पर्वत का नामकरण हुआ है भगवान हनुमान जब वे लंका के लिए संजीवनी बूटी (एक जड़ी-बूटी) के साथ भरी पहाड़ ले जा रहे थे, तो कुछ हिस्सा आयोध्या में गिर गया था। इस 65 फीट ऊचे पहाड़ को बाद में मणि पर्वत कहा गया। मणि पर्वत का नामकरण भगवान हनुमान के एक अद्वितीय कार्य के साथ जुड़ा है, जब उन्होंने लंका के लिए संजीवनी बूटी के साथ विशाल पहाड़ को उठाया था। इसे भगवान हनुमान के श्रद्धाभाव से जोड़ा जाता है।

 बहु बेगम का मकबरा: (11/11)

Place to Mani Parvat ( Up Tourism)isit In ayodhya
Tomb-of-Bahu-Begum(Image credit Up Tourism)

बहु बेगम का मकबरा, नवाब शुजा-उद-दौला की रानी उनमतुज्जोहरा बानो का अंतिम विश्राम स्थल है। यह मकबरा आवाधी वास्तुकला शैली का अच्छा उदाहरण है। पूरा समृद्धि से भरा हुआ इस सम्पूर्ण क्षेत्र को अब भारतीय पुरातात्व सर्वेक्षण (एएसआई) के तहत संरक्षित स्थल माना जाता है और इसे शिया बोर्ड कमेटी (लखनऊ) द्वारा प्रबंधित किया जाता है। यह मुहर्रम के दौरान जीवंत हो जाता है।

बहु बेगम का मकबरा, इस अद्वितीय स्मारक के माध्यम से हम उत्कृष्टता की ओर एक कदम बढ़ाते हैं जो नवाब शुजा-उद-दौला की रानी को समर्पित है। इस मकबरे का निर्माण आवाधी वास्तुकला शैली में हुआ है, जिसमें इसकी शैली और सौंदर्य की श्रेणी को देखकर हर कोई प्रभावित होता है।

Ram Mandir Inaugration Date:   

Ram Mandir Inaugration Date: एक ऐतिहासिक क्षण

 

Ram Mandir ,Ayodhya
Ram Mandir ,Ayodhya
Social media

हम सभी के लिए एक सुखद और ऐतिहासिक क्षण आने वाला है – भगवान राम के मंदिर का उद्घाटन! भगवान राम के भक्तों के लिए इस स्थल का निर्माण लंबे समय से हो रहा है और अब इसका उद्घाटन तिथि तय हो चुकी है।

उद्घाटन तिथि: 22 Jan 2024

22 Jan 2024 को होने वाला राम मंदिर का उद्घाटन तिथि भगवान राम के भक्तों के लिए एक अद्वितीय क्षण बनेगा।

यह तिथि भारतीय समाज के लिए एक नया आध्यात्मिक और सांस्कृतिक दृष्टिकोण लाएगी और देशवासियों को एक साथ आने का मौका देगी।

इस अद्वितीय घड़ी की प्रतीक्षा में लाखों भक्त और श्रद्धालु भगवान राम के आराधना में लगे हैं। इस मंदिर का निर्माण समर्थन और योजना के तहत तेजी से बढ़ा है और उद्घाटन तिथि का ऐलान होते ही भक्तों में उत्साह का माहौल है।  23rd Jan 2024 से मंदिर सभी भक्तों के लिए ओपन कर दिया जायेगा। राम भक्त आसानी से दर्शन कर पाऐगें ।

Ayodhya station to Ram Mandir Distance:

Ayodhya station to Ram Mandir Distance: अयोध्या, भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित एक ऐतिहासिक शहर है। यह शहर भगवान राम की जन्मभूमि के रूप में प्रसिद्ध है। बीते कुछ वर्षों में, अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए हुए आंदोलन ने पूरे देश में हलचल मचा दी थी। अब, राम मंदिर निर्माण का काम अंतिम चरण में है और 22 जनवरी, 2024 को रामलला की प्राण प्रतिष्ठा होने वाली है।

इस अवसर पर देश भर से लाखों श्रद्धालु और पर्यटक अयोध्या पहुंचने की योजना बना रहे हैं। ऐसे में, यह जानना जरूरी है कि अयोध्या पहुंचने के बाद राम मंदिर तक कैसे पहुंचा जा सकता है। इस ब्लॉग में, हम आपको बताएंगे कि अयोध्या एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन और बस अड्डे से कैसे राम मंदिर पहुंचा जा सकता है।

अयोध्या एयरपोर्ट से राम मंदिर:

place to visit in Ayodhya
Maharshi Balmiki international Airport , Image – Google

अयोध्या में एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है, जिसका नाम महर्षि वाल्मीकि एयरपोर्ट है। यह हवाई अड्डा अयोध्या शहर से लगभग 7 किलोमीटर दूर स्थित है। हवाई अड्डे से राम मंदिर तक जाने के लिए आप ऑटो, टैक्सी या बस ले सकते हैं।

ऑटो से राम मंदिर तक जाने में लगभग 15-20 मिनट लगते हैं और किराया लगभग 100 रुपये होता है। टैक्सी से जाने में लगभग 10-12 मिनट लगते हैं और किराया लगभग 150 रुपये होता है। बस से जाने में लगभग 30-35 मिनट लगते हैं और किराया लगभग 20 रुपये होता है।

Ayodhya Station to Ram Mandir Distance:

अयोध्या रेलवे स्टेशन शहर के केंद्र में स्थित है। रेलवे स्टेशन से राम मंदिर की distance करीब 1 किलोमीटर है। मंदिर तक जाने के लिए आप पैदल, साइकिल, ऑटो, टैक्सी या बस ले सकते हैं।

पैदल जाने में लगभग 15-20 मिनट लगते हैं। साइकिल से जाने में लगभग 5-7 मिनट लगते हैं। ऑटो से जाने में लगभग 5-7 मिनट लगते हैं और किराया लगभग 20 रुपये होता है। टैक्सी से जाने में लगभग 3-5 मिनट लगते हैं और किराया लगभग 50 रुपये होता है। बस से जाने में लगभग 10-12 मिनट लगते हैं और किराया लगभग 10 रुपये होता है।

अयोध्या बस अड्डा से राम मंदिर:

अयोध्या बस अड्डा शहर के बाहरी इलाके में स्थित है। बस अड्डे से राम मंदिर तक जाने के लिए आप ऑटो, टैक्सी या बस ले सकते हैं।

ऑटो से जाने में लगभग 10-12 मिनट लगते हैं और किराया लगभग 20 रुपये होता है। टैक्सी से जाने में लगभग 5-7 मिनट लगते हैं और किराया लगभग 50 रुपये होता है। बस से जाने में लगभग 15-20 मिनट लगते हैं और किराया लगभग 15 रुपये होता है।

Place to visit in Ayodhya निष्कर्ष:

अयोध्या एक ऐतिहासिक और धार्मिक शहर है। यहां पहुंचने के बाद राम मंदिर तक पहुंचने के लिए कई विकल्प उपलब्ध हैं। आप अपनी सुविधा और बजट के अनुसार किसी भी विकल्प का चयन कर सकते हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular